---Advertisement---

इस वजह के चलते गर्मी के दिनों में आती है बिजली की समस्या, यह है इसका निस्तारण।

---Advertisement---

रिपोर्ट:- शरद मिश्रा”शरद”
निघासन खीरी: हमने देखा है की ठंड के दिनों में क्षेत्रवासियों को अच्छी बिजली सप्लाई मिलती है वहीं जैसे-जैसे गर्मियों का सीजन शुरू होता है वैसे-वैसे ही बिजली कटौती की समस्या बढ़ती जाती है। ऐसा आखिर क्यों है? आइए आपको हम बताते है।
जब बिजली की मैन सप्लाई शुरू की जाती है तो 1 लाख 32 हजार केवी के ट्रांसफार्मर द्वारा निघासन पवार हाउस में लगे 33 हजार केवी के ट्रांसफार्मर को सप्लाई मिलती है। जिसके बाद सप्लाई 11 हजार केवी ट्रांसफार्मर के द्वारा क्षेत्र में विद्युत सप्लाई दी जाती है। ठंड के दिनों में ये सभी ट्रांसफार्मर अच्छी तरह से कार्य करते है मगर जब गर्मी आती है तो निघासन पॉवर हाउस में लगे 33 हजार केवी वाले ट्रांसफार्मर पर लोड पड़ता है और वो गर्म होना शुरू हो जाता है। जब इस ट्रांसफार्मर का तापमान 70 डिग्री के पास पहुंचता है वैसे ही सप्लाई बंद कर दी जाती है। फिर बिजली विभाग के कर्मचारियों द्वारा इस ट्रांसफार्मर पर पानी डालकर ठंडा किया जाता है। जब यह ठंडा हो जाता है तो पुनः सप्लाई शुरू कर दी जाती है। जब ट्रांसफर 70 डिग्री पर गर्म हो जाता है तो यदि सप्लाई बंद न की जाए तो यह ब्लास्ट भी हो सकता है। यही मुख्य कारण है की गर्मी के दिनों में सप्लाई बार बार बंद की जाती है और जब तक ट्रांसफार्मर ठंडा नही होता तब तक सप्लाई नहीं लगाई जाती।

इस समस्या का यह है निस्तारण

निघासन पवार हाउस में लगे 33 हजार केवी के ट्रांसफार्मर में जो तेल पड़ा है वो बहुत ही पुराना है। जिसकी वजह से ट्रांसफार्मर बार बार जल्दी गर्म होता है। यदि इस ट्रांसफार्मर में नया तेल डाल दिया जाए तो इस समस्या का निस्तारण हो सकता है। हालाकि यह तेल बहुत महंगा आता है मगर विभाग इसके लिए भी बजट आवंटित करता है। विभाग को चाहिए की यदि ऐसी समस्या है तो इसका निस्तारण करें।

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

पत्रकारिता जगत में एक ऐसा नाम जो निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाना जाता है।

---Advertisement---
PT 2
PT 4
PT 3
PT 1
P Adv

Leave a comment