---Advertisement---

बिना किसी गारंटी व जमानत के 59 मिनट में प्राप्त करें 10 लाख तक का लोन, आवेदन यहां से करें।

---Advertisement---

एमएसएमई ऋण योजना: यदि आपको रुपयों की है शख्त जरूरत और आप बैंक से लेना चाहिते है लोन तो अब आपको परेशान होने की बिलकुल जरुरत नही है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे की आप आसानी से लोन कैसे प्राप्त कर सकते है। ये लोन सुविधा सिर्फ मुख्य रूप से व्यवसाय विस्तार, नया व्यवसाय शुरू करने, कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं को पूरा करने, नकदी प्रवाह को बढ़ाने, कच्चे माल, सामान या स्टॉक खरीदने, उपकरण/मशीनरी खरीदने या अपग्रेड करने, किराया/वेतन का भुगतान करने, कर्मचारियों को काम पर रखने और प्रशिक्षण देने आदि के लिए है। सरकार की तरफ से चलाई जा रही एमएसएमई ऋण योजना के तहत अधिकतम ऋण 2 करोड़ तक दिया जाता जो 5 साल की अवधि तक चुकौती के लिए वैध है। इस योजना में किसको कितना लोन दिया जाएगा ये आवेदक की प्रोफ़ाइल और व्यावसायिक आवश्यकताओं के अनुसार निर्भर होगा। इसका लाभ लेने के लिए आपका सिविल स्कोर 750 से अधिक होना चाहिए। 59 मिनट में एमएसएमई ऋण के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए, आप psbloansin59minutes.com पर जा सकते हैं , जो भारत सरकार की एक पहल है जो आवेदन पत्र जमा करने के बाद सिर्फ 59 मिनट में व्यवसाय ऋण को मंजूरी देती है।

एमएसएमई से लोन को लेने के लिए पात्रता:-

  • आवेदन की आयु 21 वर्ष से 65 वर्ष होनी चाहिए।
  • आपके व्यवसाय की अवधि 1 वर्ष होनी चाहिए।
  • वार्षिक व्यवसाय कारोबार: ऋणदाता द्वारा परिभाषित, बैंक दर बैंक अलग-अलग होगा
  • आवेदक की सिविल अच्छी होनी चाहिए।
  • आवेदक का किसी भी पिछला ऋण लेने का इतिहास अच्छा होना चाहिए।
  • आवेदक के अच्छे क्रेडिट स्कोर और ऋण-योग्यता पर ऋणदाताओं द्वारा विचार किया जाएगा।

ऋण लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज:-

  • केवाईसी दस्तावेज
  • आधार कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पैन कार्ड
  • बिजली बिल

एमएसएमई ऋण योजना का उद्देश्य:

  • नया व्यवसाय शुरू करना या मौजूदा उद्यमों का विस्तार करना।
  • संयंत्र एवं मशीनरी की खरीद, जैसे परीक्षण या प्रयोगशाला उपकरण/मशीनें, विद्युत उपकरण, फर्नीचर, स्पेयर पार्ट्स आदि।
  • भवन स्थलों का निर्माण, या भूमि/कारखाना या व्यावसायिक संपत्तियों का अधिग्रहण
  • नये उत्पाद रेंज का शुभारंभ, या बिल डिस्काउंटिंग के रूप में आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान
  • वेतन भुगतान, माल और कच्चे माल की खरीद, इन्वेंट्री का भंडारण, विपणन और विज्ञापन उद्देश्यों आदि जैसी कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं को पूरा करना।
  • नई या पुरानी मशीनरी/उपकरण या वाहनों का बेड़ा खरीदना
  • व्यवसाय-संबंधी उद्देश्यों के लिए कोई अतिरिक्त वित्तीय सहायता।
दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

पत्रकारिता जगत में एक ऐसा नाम जो निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाना जाता है।

---Advertisement---
PT 2
PT 4
PT 3
PT 1
P Adv

Leave a comment