---Advertisement---

बाघ मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम में मानव वन्य जीव संघर्ष रोकने के लिए दिए गए आवश्यक सुझाव।।

---Advertisement---

लखीमपुर खीरी। मोहम्मदी रेज परिसर मे बाघ मित्र प्रशिक्षण का कार्यक्रम डब्लूडब्लूएफ इण्डिया के सहयोग से दक्षिणी खीरी वन प्रभाग द्वारा आयोजित किया गया। कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि दुधवा टाइगर रिजर्व के फील्ड डारेक्टर ललित वर्मा रहे। कार्यक्रम मे विशिष्ट अतिथि सजय विश्वासल प्रभागीय वन अधिकारी दक्षिण खीरी सौरीश सहाय उप निदेशक बफर जोन एव डा मुदीत गुप्ता वरिष्ठ समन्वयवक डब्लू डब्लू एफ इण्डिया रहे।
मुख्य प्रशिक्षण डब्लू डब्लू एफ के वरिष्ठ परियोजना अधिकारी दबीर हसन नरेश कुमार रोहित रवि रहे। स्वागत उदबोधन करते हुए प्रभागीय वन अधिकारी दक्षिण खीरी सजय विश्ववाल ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया एव वाघ मित्र कार्यक्रम के महत्व बताया तथा दक्षिण खीरी वन प्रभाग के बाघ मित्र को मानव वन्य जीव संघर्ष रोकने हेतु आवश्यक सुझाव दिये।
वरिष्ठ समन्यवक डब्ल्यूडब्लूएफ इण्डिया डा० मुदीत गुप्ता ने पीलीभीत दक्षिण खीरी बफर जोन एव कतर्नियाघाट वन्य जीव प्रभाग मे बाघ मित्रों के बारे में बताया गया एव उनके आगे के कार्यक्रम के बारे मे बताया गया। उत्तर खीरी वन प्रभाग के प्रभागीय वन अधिकारी सैरीश सहाय ने बफर जोन के सभी रेंजो मे बाघ मित्रों के बारे में बताया एवम कहा अभी बाघ मित्रों को और प्रशिक्षण करने एवम संसाधनों से लैस करने की अवश्यकता है। तथा उन्होंने कहा कि बफर जोन भौगोलिक रूप से काफी बड़ा प्रभाग है और वन्य जीव सम्बंधित समस्याएं काफी है।
इस लिए डब्लूडब्लूएफ के परियोजना अधिकारी दबीस हसन ने भी प्रबंधन एव मानव वन्य जीव सघर्ष के बारे बताया तथा पिछले बैठकों की समीक्षा किया। पीलीभीत से आये नरेश कुमार ने पीलीभीत टाईगर रिजर्व मे बाघ मित्रों के महत्व को बताया तथा डेटा कलेक्शन एव रिकॉर्ड सग्रह के बारे मे बताया रोहित रवि ने वन्य जीव की मानीटरिग हेतु कैमरा ट्रेप एव जी पी एस के प्रयोग तथा अन्य उपकरणों के बारे मे बताया।
मुख्य अतिथि फील्ड डायरेक्टर दुधवा टाईगर रिजर्व ललित वर्मा ने बाघ मित्र कार्यक्रम का प्रारंभ उन्होंने पीलीभीत मे वर्ष 2017-18 मे करवाया था वर्तमान समय मे दुधवा टाईगर रिजर्व के बफर जोन एव कतर्नियाघाट मे स्थापित किया जा चुका है। उन्होंने बाघ मित्रों को क ई महत्वपूर्ण सुझाव दिये एव कहा कि बाघ मित्रों हमारे विभाग के लिए प्रत्येक गाँव मे प्रथम उत्तर दाता के रूप मे कार्य करे उनकी सूचना बहुत महत्वपूर्ण है। तथा उनको प्रशिक्षण एव संसाधन उपलब्ध कराया जाये। एव उनको वन्य जीवों की पहचान अन्य जानकारी हेतु और अधिक दक्ष किया जायेगा। उन्होंने बाघ मित्र कार्यक्रम मे सहयोग हेतु डब्लूडब्लूएफ की सराहना किया तथा बाघ मित्रों एव वन कर्मियों का वन्य जीव सूचना के सम्बन्ध मे एक अभ्यास भी करवाया एव अवश्यक सुझाव दिये।
कार्यक्रम मे क्षेत्रीय वन अधिकारी गोला संजीव तिवारी क्षेत्रीय वन अधिकारी मोहम्मदी नरेश पाल सिंह समेत गोला मोहम्मदी के अग्रिम पक्ति के कर्मचारी व भीरा मैलानी मोहम्मदी के बाघ मित्र उपस्थित रहे।

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

पत्रकारिता जगत में एक ऐसा नाम जो निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाना जाता है।

---Advertisement---
PT 2
PT 4
PT 3
PT 1
P Adv

Leave a comment