---Advertisement---

बहादुरी की मिशाल:- मगरमच्छ से लड़ गया मासूम अंकित, इस लड़ाई में गवाया अपना हाथ।।

---Advertisement---

लखीमपुर खीरी: जिले में एक बच्चा बहादुरी की मिसाल पेश करते हुए बिना डरे मगरमच्छ से लड़ गया, हालांकि कई मिनट तक मगरमच्छ से लड़ाई में बच्चे को अपना एक हांथ गंवाना पड़ा, वहीं बच्चा जब इलाज के लिए निघासन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा तो सिस्टम से हार गया, वहां बच्चे का इलाज बैठने के लिए बनी बेंच पर किया गया, इसकी जो तस्वीर सामने आई है, वह विचलित करने वाली है, फिलहाल बच्चे की हालत गम्भीर देखते हुए डॉक्टरों ने बच्चे को इलाज के लिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया है।
बताते चलें की सिंगाही थाना क्षेत्र के ग्राम ठाकुर पुरवा मजरा बंगलहा तकिया निवासी सोमबारी का 11 साल का बेटा संकित कुमार शुक्रवार को अपनी मां के साथ घास लेने गांव के किनारे गया था। संकित जैसे ही तालाब के पास पहुंचा तो तालाब में छिपे एक बड़े मगरमच्छ ने उसे दबोच लिया। ये देख संकित की मां के होश उड़ गए और जोर-जोर से शोर मचाना शुरू कर दिया। पड़ोस में पड़े एक डंडे से भी मगरमच्छ को पीटने लगी। लेकिन मगरमच्छ संकित को तालाब में खींचता रहा। जबकि संकित अपनी पूरी ताकत से मगरमच्छ से लड़ता रहा। यह करीब कई मिनट तक चलता रहा। वहीं, संकित की मां का शोर सुनकर पहुंचे लोगों ने लाठी डंडों से पीटकर किसी तरह से संकित को मगरमच्छ के जबड़े से छुड़ाया. लेकिन तब तक मगरमच्छ संकित का बायां हाथ चबा चुका था।

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

पत्रकारिता जगत में एक ऐसा नाम जो निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाना जाता है।

---Advertisement---
PT 2
PT 4
PT 3
PT 1
P Adv

Leave a comment