---Advertisement---

गन्ना किसान अपनी फसल के रोगों को बचाने के लिए करें ये जरूरी काम:- गन्ना शोध परिषद

---Advertisement---

गन्ना किसान: उत्तर प्रदेश गन्ना शोध परिषद शाहजहांपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक पादप एवं कीट रोग विशेषज्ञ डॉ सुजीत प्रताप सिंह ने जनपद लखीमपुर खीरी में गन्ने के खेतों का निरीक्षण किया।
घरथनिया, कपरहा, बैदाखेड़ा, विष्णुबेहड़, बेलहरी, बेलाबोझी, जड़ौरा, कपरहा, कोटवारा इत्यादि का भ्रमण कर क्षेत्र में गन्ने में लगने वाले कीट तथा रोग की पहचान एवं निदान के बारे में कृषकों को विस्तार से बताया। इस सम्बन्ध में डॉ सुजीत प्रताप सिंह ने कृषको को चोटी बेधक कीट से बचाव के लिए यांत्रिक नियंत्रण के अंतर्गत प्रभावित पौधों को यथा शीघ्र काटकर नष्ट करने तथा कोराजन व सिटीजन की ड्रेचिंग करने की सलाह दी और लग रहे पोक्का बोइंग रोग के निदान के लिए छिड़काव करने की सलाह दी।
गन्ना प्रजाति 0238 के खेत को भी देखा गया, परन्तु अभी कहीं कोई लाल सड़न रोग के लक्षण नहीं पाया गया। सर्वेक्षण के दौरान चीनी मिल के सहायक महाप्रबन्धक डॉ ओडी शर्मा, प्रबन्धक सत्येन्द्र कुमार मिश्र व संजीव चौधरी उपस्थित रहे।

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

दीप शंकर मिश्र"दीप":- संपादक

पत्रकारिता जगत में एक ऐसा नाम जो निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाना जाता है।

---Advertisement---
PT 2
PT 4
PT 3
PT 1
P Adv

Leave a comment